प्रभु का अंगीकार

प्रभु का अंगीकार 

पिताजी मेरे पिताजी

मेरे बहते आंसू

आप देखते हो

मेरा समय गया है

 

कि आपके  दांहिने हाथ में बैठूं

आपकी पे्रमी

चुनी हुइ आत्माऐं

आपके हाथों मे देता हँू

 

मेरे पिता अपनी इच्छा पूरी कर

और अपने लोंगों

से महीमा लें

क्योंकि ये बेटा अब

 

उनके साथ रहेगा

तौभी उनमें रहेगा

मेरे पिता अपने पे्रम को

इस स्थान में भर दो

पिताजी मेरे पिताजी

पिता की इच्छा पूरी हुइ

पिता के प्रेम के द्वारा

आत्माओं को उद्धार दिया गया

 

सुन्दर स्वर्ग की आशा

आपके बच्चों को अब दी गर्इ

वो पिताजी के प्रेम का

फल बन गये

 

वो बेटे के द्वारा

पिता के आंसूओं

का फल बन गये

 

प्रिये मेरे पिताजी

धन्यवाद, धन्यवाद

 

मददगार पवित्रआत्मा

वो उनके हृदय को भरेगा

पिता की योजना अब पूरी हुर्इ

बिना घटी के

 

पवित्र आत्मा के सामथ्र्यी कार्य

उनकी आंखों के सामने है

पिता का महान आदर

पूरी धरती पर फैला है

 

आप ही प्रथम और अंतिम

आप ही आदि और अंत हो।

योजना और कार्य

सुदंरता से पूरे हुऐ

SHARE